chemistry single liner in hindi for competitive exams

[wysija_form id=”1″]One liner chemistry facts in hindi
one liner chemistry facts in hindi

 hello,friends  me vikas narvariya aap sabhi ka gyansensor.com me welcome karta hu. friends me aaj aapke liye chemisrty subject se related kuch important one liner chemistry facts in hindi laya hu jo commonly competitive exam me puche jate hai. so friends aap in facts ko ache se yaad kar lijiye taki ab kisi bhi competitive exam me agar puche jaye to aap inka answer simply  de sake.

लेवायसिये को रसायन विज्ञान का जनक कहा जाता है.

जल तीनो भौतिक अवस्था (ठोस, द्रव,गैस) में रह सकता है.

■ पदार्थ की चौथी अवस्था प्लाज्मा और पांचवी अवस्था बोस आइन्स्टाइन क्न्दन्सेट है.

अशुद्धियों की उपस्थिति में पदार्थ का हिमांक और द्रवनांक दोनों ही कम हो जाता है.




सांचे में केवल वे पदार्थ ढाले जा सकते है जो ठोस बनने पर आयतन में बढ़ते है क्योंकि तभी वे सांचे के आकर को पूर्णतया प्राप्त कर सकते है.

■ सबसे अधिक समस्थानिकों वाला तत्व पोलोनिऍम है.

फ्लोरीन की विधुत ऋणात्मकता सबसे अधिक होती है.

■  अम्ल स्वाद में खट्टे होते हैं.

■बिभिन्न पदार्थों में पाए जाने वाले अम्ल निम्न हैं.

■  दूध – लैक्टिक एसिड

■ सिरका और आचार- एसिटिक एसिड

■ सोडावाटर एवं अन्य पेय- कार्बोनिल एसिड

■ अंगूर- टार्टरिक एसिड

■ नींबू और संतरा- साईटरिक एसिड

अम्लराज– 3:1 के अनुपात में सान्द्र हाइड्रोक्लोरिक अम्ल और सान्द्र नाइट्रिक अम्ल का ताजा मिश्रण होता है. जो प्लैटिनम और सोने को गलाने में समर्थ होता है.

■ साधारण नमक- सोडियम क्लोराइड

■ खाने का सोडा- सोडियम बाई कार्बोनेट

■ धावन सोडा-सोडियम कार्बोनेट

■ कास्टिक सोडा-सोडियम हाईड्राक्साइड

■ किसी बिलयन का pH मान 7 से कम होने पर अम्लीय और 7 से अधिक होने पर बिलयन क्षारीय कहलाता है.

जल का pH मन 7 होता है .

■ हमारा शरीर केवल 7.0 से 7.8 pH परास के बीच कार्य करता है. जीवित प्राणी केवल संकीर्ण pH परास में ही जीवित रह सकते हैं.

दांतों का एनैमल कैल्शियम फास्फेट का बना होता है जो शारीर का सबसे कठोर पदार्थ होता है. ये जल में नहीं घुलता लेकिन मुँह का pH मन 5.5 से कम होने पर इसका क्षय होने लगता है.

कार्बन के दो मुख्य अपरूप है :  हीरा और ग्रेफाइट

ग्रेफाइट को कागज पर रगड़ने से कला निशान बन जाता है जिस कारण इसे काला शीशा भी कहते है.

थर्मोप्लास्टिक – यह बार-बार गर्म करके मन चाहे आकर में ढला जा सकता है.

थर्मोसेटिंग प्लास्टिक – ये पहली बार गर्म करने पर मुलयम हो जाता है और इसे मन चाहे आकर में ढला जा सकता है लेकिन दुबारा नहीं पिघलाया जा सकता है.

हाईडरोजन को भविष्य का ईधन कहा जाता है.

■ सबसे उच्च कोटि का कोयला एन्थ्रेसाईट (85% से अधिक कार्बन) और पीट (कार्बन 50% से 60%)सबसे निम्न कोटि का कोयला होता है.

LPG में रिसाव को पता करने के लिए इसमें सल्फर के यौगिक मिथाइल मर्कोप्टेन को मिला दिया जाता है.

अल्कोहल को जब पेट्रोल में मिला दिया जाता है तो उसे पॉवर अल्कोहल कहते है जो ऊर्जा का एक वैकल्पिक स्त्रोत है.

सिगरेट लाइटर में ब्यूटेन का प्रयोग होता है.

■ कुछ भारी धातुएं जल में घुलकर उसे प्रदूषित करती है जैसे लेड, पारा, कैडमियम आदि.

टंगस्टन का प्रयोग बल्ब के फिलामेंट के रूप में किया जाता है क्योकि इसका गलनांक 3500 ºC होता है.

■ सबसे भारी धातु ऑस्मियम है.

कैंसर रोग के इलाज में कोबाल्ट के समस्थानिक का प्रयोग किया जाता है.

Actinides रेडियो सक्रिय तत्वों का समूह है.

विधुत हीटर की कुंडली नाइक्रोम की बनी होती है जो निकिल, क्रोमियम और आयरन की मिश्र धातु है.

पिंटवा लोहे में कार्बन की मात्र सबसे कम रहती है.

मतदान के समय निशान लगाने वाली स्याही में सिल्वर नाइट्रेट का उपयोग किया जाता है.

शुध्द सोना 24 कैरट का होता है जबकि आभूषण 22 कैरट सोने से बनाये जाते है.

यूरेनियम को आशा धातु कहा जाता है.

पीतल– 70% कॉपर और 30% जिंक होता है.

गन मेटल– 90% कॉपर, 2%जिंक और  8% टिन मिलाया जाता है.

डयुटीरियम के ऑक्साइड D२O को भारी जल कहते हैं जिसका उपयोग नाभिकीय रिएक्टर में न्यूट्रन मंदक के रूप में किया जाता है.

■ बिभिन्न कांच और उनके उपयोग निम्न हैं.

फ्लिंट कांच– कैमरा, दूरबीन के लेंस व विधुत बल्ब में

पाईरेक्स कांच– प्रयोग शाला के उपकरण

सोडा कांच– ट्यूब लाइट, बोतलें, दैनिक प्रयोग के बर्तन

क्रुक्क्स कांच– धुप के चश्मे

पोटाश कांच– अधिक ताप पर गर्म किये जाने वाले कांच के बर्तन और प्रयोग शाला उपकरण

प्रकाशीय कांच– चश्मा, सुश्मदर्शी, एवं टेलिस्कोप एवं प्रिज्म बनाने में

बुलेट प्रूफ जैकेट बनाने में रेशेदार कांच का प्रयोग किया जाता है.

फोटोक्रोमेटिक कांच सिल्वर ब्रोमाइड के कारण धूप में स्वतः काला हो जाता है.

डाईनामाइट का अविष्कार सन 1867 में अल्फ्रेड नोबेल ने किया था.

RDX का पूरा नाम Research and Developed Explosive है.

गन पाउडर की खोज रोजेर बेंकन ने की थी.

■ यदि क्लोरोफोर्म को सूर्य के प्रकाश में वायुमंडल में खुला छोड़ दिया जाये तो ये विषैली गैस फास्जीन में बदल जाती है.

ठोस कार्बन डाई ऑक्साइड को शुष्क बर्फ कहते है जिसे गर्म करने पर वह सीधे ही गैस में परिवर्तित हो जाती है.

सेक्रिन शक्कर की अपेक्षा 550 गुना अधिक मीठा होता है.

नाइट्रस ऑक्साइड को हँसाने वाली गैस कहते है जिसकी खोज प्रिस्टले ने की थी.

■ सबसे हल्का तत्व लिथियम है.

I hope freinds aapko ye post bahut pasand aayi hogi.
Agar aap hamari esi hi nayi-nayi post ko apne EMAIL
inbox me recieve chahte hai to please subscribe kijiye.
Is post ko social media par apne freinds or relatives ke
sath jarur sahre kijiye. Have a nice day.
THANKS

I hope ye post aapko pasand aayi hogi. post se related comments aap yaha kar sakte hai.thanks