motivational poem on parents by vikas narvariya in hindi

THE WORDS TO PARENTS FROM THE HEART OF EVERY CHILD

motivational poem on parents by vikas narvariya in hindi

motivational poem on parents by vikas narvariya in hindi

Hello, friends me vikas narvariya GyanSensor me aapka most welcome karta hu.Friends i hope aap sabhi ache hi honge. Aaj me aapke liye ek nayi kavita lekar fir hajir hua hu or aaj ki kavita hai parents or bachcho se related. Friends hum sabhi logo ko hamare parents bhot hi priya hote hain or hum hamesh yahi sochte hain ki hamare parents duniya ke best parents hain jo ki hote bhi hain. Or same esa hi hamare parents bhi hamare bare me sochte hain. Wo sochte hain ki hum apne bacho ke liye mehnat karte hain or unki har khwaishe puri karte hain wese hi hamare bachche bhi hamari khwaishe puri kare or dusre bachche jaise unke maa-papa ka name roshan karte hain wese hi hamare bache bhi kare.

ALSO READ: POEM ON WOMEN’S

POEM TO CHEATER’S

or har insan yahi chahta hai or koshish bhi karta hai ki wo uske maa-papa ko duniya ki sabhi khushiyaan de.Lekin friends hum jo karna chahte hain apne parents ke liye use hum unhe keh kar nahi bata pate hain ki hum actually me kya-kya acheive karke aapko dena chahte hain. Bus isi topic se related hai aaj meri poem. Ki ek insan us samay me jab wo apni manzil ke raste par nikal jata hai or uske saamne mushkilo ke sath avsaro ka bhi dher hota hai to wo vyakti us samay apne parents se kya apekshayein rakhta hai ki bus aap mere liye itna sa upkar or kar dena baki to saari kushiyan me aapke kadmo me lakar rakh dunga. so friends aapko meri kavita kaisi lagi ye jarur bataiyega or me jo kehna cha raha hu use agar aap ache se samajh jate hain to comments or share jarur kijiyega.

” जब मैं हाथ फैलाऊँ तुम्हारे आगे तो दरवाज़ा तुम अपना बंद कर लेना,
चाहते हो ऊँचा उठ सकूँ मैं तो बेदख़ल करके मुझे मन ही मन थोड़ा मर लेना “

” भूखा मुझे देखकर सिर्फ दुआएं इतनी सी कर लेना की,
सिर्फ रूखी-सूखी ही मिले मुझे, और पकवान अपने लिए धर लेना “

” जो बनकर भेदी लंका ढाए उनसे आशीर्वाद न तुम दिलवा देना,
जो खुद भी बनकर ओरों को भी बनाये सिर्फ इसे ही लोगों से तुम मिलवा देना “

” वक़्त-वक़्त पर मेरी विफलताओं का जहर तुम पी लेना ‘
एक दिन सफलता मुझे मिलेगी ज़रूर बस इसी गलत फ़हमी में जी लेना “

” जब कोशिशें कर-कर हर जाऊं मैं तो मेरी जीत की घूस न तुम दे देना ,
सोने को भी बार-बार तपना पढ़ता है ऐसी बात पुरानी तुम कह देना “




” ये दुनिया जहर घोलेगी की पूत तुम्हारा बिगड़ रहा है ऐसा तो तुम मान लेना,
उनके चेहरे की शिकन देखकर खून तुम्हारा बिलकुल सही है ऐसा तुम जान लेना “

” गर्व से सीना चौड़ा तुम्हारा न कर दूँ तो रिश्ता ख़त्म तुम कर देना,
नाम तुम्हारा कहीं डूबा दूँ तो तुरंत मुझे भसम तुम कर देना “

” ठंडा हो जाऊं ओरों को देखकर तो गुस्से की आंच तुम ज़रा बढ़ा देना,
करूँ बहाने किस्मत के तो अपने संघर्ष का आईना मेरे सामने अड़ा देना “

” कोयले से बन जाऊँ जिस दिन हीरा अंगूठी में तुम अपनी जड़ लेना,
गिर-गिर कर ही उठूँगा मैं ऐसा मेरी किताब का आखिरी पन्ना तुम पढ़ लेना “

” भाग जाऊं अपने कर्त्तव्य से तो इस जग को कलियुग तुम बता देना,
खुश ज़रा सा भी कर दूँ तो हमेशा अपने चरणों में घर तुम मेरा बना देना “

I hope freinds aapko ye post pasand aayi hogi.
Agar aap hamari esi hi nayi-nayi post ko apne EMAIL
inbox me recieve karna chahte hai to please subscribe kijiye.
Is post ko social media par apne freinds or relatives ke
sath jarur share kijiye. Have a nice day.
THANKS

I hope ye post aapko pasand aayi hogi. post se related comments aap yaha kar sakte hai.thanks